समर्थक

गुरुवार, 13 सितंबर 2012

कमल ! कैसी ये दुनिया है ?
किसी की रंगीं है यादें !
किसी की गमगीं है यादें!!
किसी की मौज आती है !
किसी की मौत आती है !!
किसी की ज़िन्दगी...मज़ा !
किसी की ज़िन्दगी ...सजा !!
किसी को रात है प्यारी !
किसी को रात है भारी !!
कमल ! ऐसी ये दुनिया है .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें