समर्थक

गुरुवार, 13 सितंबर 2012

आशिक के टूटे दिल की आवाज़ है ग़ज़ल !
शायर के तसव्वुर का अंदाज़ है ग़ज़ल !!
क्या पूछते हो तुम क्या चीज़ है ग़ज़ल ?
गमख्वार दिमागों की अज़ीज़ है ग़ज़ल !!
कुछ पागलों के दिल में बदनाम है ग़ज़ल !
बिछड़े हुए दिलो का आराम है ग़ज़ल !!
शायर से जाके पूछो जुनून है ग़ज़ल !
आशिक भी यही कहता सुकून है ग़ज़ल !!
उल्फत में चोट खाये की एक आह है ग़ज़ल !
आँसू है, दर्द, टीस है, कराह है ग़ज़ल !!
रुबाई, नज़्म सब में बुलंद है ग़ज़ल!
वजह यही, "कमल" को जो पसंद है ग़ज़ल !!

1 टिप्पणी:

  1. Pati Ke Fate Haal Ki Jhad hai Patni
    Pati Ke Toote Chashme Ki Jhad Hai patni
    Kya Puchhte Ho tum Kya Chiz Hai Patni
    Kambakhto Jee Ka Jhanjaal Hai patni
    Kuchh Pagaalo Ke Naseeb Me Achhi Hai Patni
    Aaram Haraam Hai patni
    Pati Se Jakar Puchho Sardard Hai Patni
    Pati Bhi Ye Kehta Hai Dayan Hai Patni
    Zindagi Ki Chot Ki Aah Hai Patni
    Aansoo Hai Dard Hai Tis Hai Karaah Hai Patni
    Chudail Dayan Sabse Kamini Hai Patni
    Vajah Yahi Hai "Atul" Ko Na Pasand Hai

    उत्तर देंहटाएं